कर्ज मुक्ति के उपाय/Karz Mukti Ke Upay - Mantra, tantra, Stuti, Vandana, Bhajan Sadhna of Hindu Gods and Goddesses

Puja Path ka Samaan (For U.S.)

Hot

Post Top Ad

Your Ad Spot

कर्ज मुक्ति के उपाय/Karz Mukti Ke Upay

कर्ज मुक्ति के उपाय

शनिवार के दिन सुबह नित्य कर्म व स्नान आदि करने से बाद अपनी लंबाई के अनुसार काल धागा लें और इसे एक नारियल नारियल पर लपेट लें । इसका पूजन करें और इस नारियल को बहते हुए जल में प्रवाहित कर दें । साथ ही यह भगवान से Karz Mukti के लिए प्रार्थना भी करें । इस छोटे से उपाय से शीघ्र ही आप कर्ज की टेंशन से छुटकारा पा लेंगे ।

किसी भी महीने की कृष्ण पक्ष की 1 तिथि, शुक्ल पक्ष की 2, 3, 4, 6, 7, 8, 10, 11, 12, 13 पूर्णिमा व मंगलवार के दिन उधार दें और बुधवार को ही कर्ज लें ।

चर लग्न जैसे- मेष, कर्क, तुला व मकर लग्न में कर्ज लेने पर शीघ्र उतर जाता है । लेकिन, चर लग्न में कर्जा दें नहीं । चर लग्न में पांचवें व नौवें स्थान में शुभ ग्रह व आठवें स्थान में कोई भी ग्रह नहीं हो, वरना ऋण पर ऋण चढ़ता चला जाएगा ।

प्रतिदिन लाल मसूर की दाल का दान करें । ऐसा करने से Karz Mukti ( karz se chutkara pane ke upay ) मिलती है ।

हस्त नक्षत्र रविवार की संक्रांति के वृद्धि योग में कर्ज उतारने से शीघ्र ही Karz Mukti होने लगती है ।
कर्ज लेने जाते समय घर से निकलते वक्त जो स्वर चल रहा हो, उस समय वही पांव बाहर निकालें तो कार्य सिद्धि होती है, परंतु कर्ज देते समय सूर्य स्वर को शुभकारी माना  है।

कर्ज मुक्ति के लिए जातक को ऋणहर्ता गणेश स्तोत्र का शुक्ल पक्ष के बुधवार से नित्य पाठ करने से शीघ्र ही Karz Mukti मिलती है.

बुधवार को सवा पाव मूंग उबालकर घी-शक्कर मिलाकर गाय को खिलाने से शीघ्र Karz Mukti ( karz se chutkara pane ke upay ) मिलती है ।

सरसों का तेल मिट्टी के दीये में भरकर, फिर मिट्टी के दीये का ढक्कन लगाकर किसी नदी या तालाब के किनारे शनिवार के दिन सूर्यास्त के समय जमीन में गाड़ देने से Karz Mukti ( karz se chutkara pane ke totke ) हो सकते हैं ।

Karz Mukti के लिए घर की चौखट पर अभिमंत्रित काले घोड़े की नाल शनिवार के दिन लगाएं ।
श्मशान के कुएं का जल लाकर किसी पीपल के वृक्ष पर चढ़ाना चाहिए । यह कार्य नियमित रूप से 7 शनिवार को किया जाना चाहिए । ऐसा करने से Karz Mukti ( karz se mukti pane ke upay ) होने लगती है ।

5 गुलाब के फूल, 1 चांदी का पत्ता, थोडे से चावल, गुड लेकर उसे किसी सफेद कपड़े में 21 बार गायत्री मंत्र ( karz mukti mantra ) का जप करते हुए बांध कर बहते हुए जल में प्रवाहित कर दें । ऐसा 7 सोमवार तक लगातार करें । ऐसा करने से जातक को कर्ज से छुटकारा मिल जाता हैं !

ताम्रपत्र पर कर्जनाशक मंगल यंत्र (भौम यंत्र) अभिमंत्रित करके रोजाना पूजा करें या सवा चार रत्ती का मूंगायुक्त Karz Mukti ( karz mukti ka yantra ) मंगल यंत्र अभिमंत्रित करके गले में धारण करें । ऐसा करने से जातक को Karz Mukti ( karz se chutkara pane ke upay ) मिल जाता हैं !

सिद्ध कुंजिका स्तोत्र का नित्य एकादश पाठ करने से जातक का कर्ज शीघ्र ( karz se mukti pane ke upay ) उतरने लगता है ।

जिन जातक निरन्तर कर्ज के घेरे में रहते हैं, उन्हें प्रतिदिन "ऋणमोचक मंगल स्तोत्र" का पाठ करना चाहिये । यह पाठ शुक्ल पक्ष के प्रथम मंगलवार से शुरू करना चाहिये । यदि प्रतिदिन किसी कारण न कर सकें, तो प्रत्येक मंगलवार को अवश्य करना चाहिये । एवं लिए हुए कर्ज की प्रथम किश्त मंगलवार ( karz chukane ka sahi din ) से देना शुरू करें । इससे कर्ज शीघ्र उतर जाता है ।

जिस स्थान पर होली जलनी हो, उस स्थान पर एक छोटा-सा गड्ढा खोदकर उसमें तीन अभिमंत्रित गोमती चक्र तथा तीन कौड़ियां दबा दें । फिर मिट्टी में लाल गुलाल व हरा गुलाल मिलाकर उस गड्ढे को भरकर उसके ऊपर पीले गुलाल से कर्जदार का नाम लिख दें ।

जब होली जले तब आप पान के पत्ते पर 3 बतासे, घी में डुबोया एक जोड़ा लौंग, तीन बड़ी इलायची, थोड़े-से काले तिल व गुड़ की एक डली रखकर तथा सिन्दूर छिड़ककर पान के पत्ते से ढंक दें । अब सात परिक्रमा करते हुए प्रत्येक बार निम्न मंत्र का जप करके एक-एक गोमती चक्र होलिका में डालते जाएं -"ल्रीं ल्रीं फ्रीं फ्रीं अमुक कर्ज विनश्यते फट् स्वाहा" ( karz mukti ka mantra ) । यहां अमुक के स्थान पर कर्जदार ( karz mukti ke totke ) का नाम लें । परिक्रमा करने के बाद प्रणाम करके वापस आ जाएं । दूसरे दिन जाकर सर्वप्रथम तीन अगरबत्ती दिखाकर गड्ढे में से सामग्री निकाल लें और थोड़ी-सी गुलाल मिश्रित मिट्टी भी ले लें। फिर सभी को किसी नदी में प्रवाहित कर दें ।

यदि आप भी अपने जीवन में कर्ज से परेशान हो और उसका निवारण चाहते हो तो ज्योतिष आचार्य पंडित अपनी समस्या का निवारण कीजिये ! ( Paid Services )

नरक चतुर्दशी (रूप चतुर्दशी) के दिन पवित्रता से पांच प्रकार के पुष्पों की माला में दूर्वा व बिल्वपत्र लगाकर देवी को अर्पित करें। माल्यार्पण करते समय मौन रखें यह प्रयोग प्रभावकारी होकर यश की वृद्धि करता है।

दीपावली की रात्रि में ग्यारह बजे के बाद एकाग्रता से बैठकर के नेत्र बंद करके ऐसा ध्यान करें कि सामने महालक्ष्मी कमलासन पर विराजमान हो और आप उनके ऊपर कमल पुष्प चढ़ा रहे हैं। ऐसे कुल 108 मानसिक कमल पुष्प अर्पित करें। ऐसा करने से लक्ष्मी की कृपा होती है।

नित्य "श्री नरसिंह ऋणमोचन स्तोत्र" का पाठ करने से जातक की Karz Mukti से होने लगती हैं.

Post Top Ad

Your Ad Spot